18 वीं सदी का हमारा राजस्थान

        18 वीं सदी का हमारा राजस्थान से सम्बंधित मराठा शक्ति को सर्वप्रथम शिवाजी ने संगठित किया । औरंगजेब की मृत्यु के पश्चात , मराठा शक्ति ने उत्तर भारत में विस्तार की नीति अपनाई , जिससे वे मालवा व गुजरात में आक्रमण करने लगे । मराठों का मालवा व गुजरात पर आक्रमण , राजस्थानी शासकों के लिए चिंता का विषय बन गया ।

       राजस्थान में सर्वप्रथम 1711 ई. में मराठों ने मेवाड़ में प्रवेश किया । 1720 ई. में पेशवा बाजीराव ने मराठा ध्वज अटक से कटक तक फहराने का लक्ष्य निर्धारित किया , अतः उत्तरी भारत की ओर मराठा अग्रसर होने लगे । 1726 ई. में मराठों ने कोटा व बूंदी पर आक्रमण किए। इसके पश्चात 1728 ई. में डूंगरपुर, बाँसवाडा के शासकों ने खिराज देना स्वीकार किया । 22 अप्रैल 1734 ई. में मराठों ने बूंदी के शासक बुधसिंह हाड़ा को पुनः वहाँ का शासक बना दिया । यह मराठों का राजस्थान की राजनीति में प्रथम हस्तक्षेप था । इससे यहाँ के शासक भयभीत होने लगे , उन्होंने मराठों के विरूद्ध कोई ठोस नीति बनाने का निर्णय लिया ।

✍️हुरड़ा सम्मेलन

       18 वीं सदी का हमारा राजस्थान  के राजपूत राजाओं ने, मराठों की बढ़ती शक्ति को रोकने के लिए 17 जुलाई 1734 को हुरड़ा ( भीलवाड़ा ) में एक सम्मेलन बुलाया, जिसकी अध्यक्षता मेवाड़ के महाराणा जगतसिंह ( द्वितीय ) ने की, इसमें आमेर के सवाई जयसिंह , जोधपुर के अभयसिंह , नागौर के बख्तसिंह , कोटा के महाराव दुर्जनशाल आदि शासकों ने भाग लिया ।

18 वीं सदी का हमारा राजस्थान हुरड़ा सम्मेलन

      इस सम्मेलन में एक अहदनामा तैयार किया गया , जिसमें यह निश्चित हुआ कि सभी एक दूसरे के साथ मिलकर रहेंगे , एक का शत्रु व मित्र दूसरे का शत्रु व मित्र होगा । कोई भी नई योजना सभी मिल कर निश्चित करेंगे । वर्षा ऋतु के पश्चात रामपुरा में सभी एकत्र होंगे किंतु ये सभी शर्ते कागज तक ही सीमित होकर रह गई , इसकी कोई पालना नहीं की गई ।

       राजपूत शासक जाति , भाषा , रीति – रिवाज , परंपरा की दृष्टि से समान थे, फिर भी उनमें एकता का अभाव था। आमेर के सवाई जयसिंह की उदासीनता व निर्णयों की अस्पष्टता ने मराठों के विरुद्ध नीति को असफल बना दिया। इससे मराठों का राजस्थानी शासकों पर प्रभुत्व बढ़ता गया।

         पेशवा बाजीराव ने राजस्थान – नीति का आकलन करने के लिए, अपनी माता राधाबाई को 1735 ई में राजस्थान में तीर्थयात्रा पर भेजा । अपनी माता के सम्मान सहित सकुशल लौट आने पर पेशवा बाजीराव अगले ही वर्ष राजस्थान के दौरे पर आए व यहाँ से चौथ वसूली की।

✍️राजस्थान के उत्तराधिकार संघर्ष में मराठा भूमिका (1743 ई . – 1750 ई.)

       18 वीं सदी का हमारा राजस्थान के राजपूत शासकों में उत्तराधिकार के लिए संघर्ष होने लगा , यही कारण था कि मराठों को उत्तराधिकार के निर्णय में दखल का अवसर मिल गया ।

18 वीं सदी का हमारा राजस्थान

👉 जयपुर उत्तराधिकार संघर्ष

     उदयपुर के महाराणा अमरसिंह ( द्वितीय ) की पुत्री चंद्रकुंवर बाई का विवाह सवाई जयसिंह के साथ 1708 ई. में इस शर्त पर हुआ कि मेवाड़ की राजकुमारी से उत्पन्न पुत्र ही जयपुर के सिंहासन पर बैठेगा । 1743 ई. में सवाई जयसिंह की मृत्यु हो गई। तब मेवाड़ की राजकुमारी चंद्रकुंवर बाई से उत्पन्न पुत्र माधोसिंह ने अपने मामा महाराणा जगतसिंह ( द्वितीय ) के सहयोग से सवाई जयसिंह के ज्येष्ठ पुत्र ईश्वर सिंह को चुनौती दी।

       मराठा सरदार मल्हार राव होल्कर द्वारा माधोसिंह का पक्ष लिया गया । ईश्वर सिंह व माधोसिंह के मध्य ” राजमहल ” और ” बगरू ” के युद्ध हुए । अपने सेनापति हरगोविंद नाटाणी की कुटिलता के कारण ईश्वरसिंह को आत्महत्या करनी पड़ी और माधोसिंह मराठों के सहयोग से जयपुर का शासक बन गया ।

👉 जोधपुर – उत्तराधिकार संघर्ष

      जयपुर की भाँति जोधपुर में भी मराठों ने हस्तक्षेप किया । वहाँ भी रामसिंह और बख्तसिंह के मध्य उत्तराधिकार संघर्ष प्रारम्भ हो गया । दोनों ही मराठा सहायता के प्रयास में जुट गए । पेशवा , सिंधिया व होल्कर के हस्तक्षेप बढ़ गए । अंततः रामसिंह को राज्य का आधा भाग मिल गया । मारवाड़ का विभाजन ही नहीं हुआ , अपितु उसकी आर्थिक दशा भी शोचनीय हो गई । व्यापार नष्ट हो गए , कृषि बर्बाद हो गई और मराठों की माँगें दिन – प्रति दिन बढ़ती गई । वे कोई समझौता करने पर सहमत नहीं थे ।

👉 मेवाड़ में उत्तराधिकार संघर्ष

      1761 ई. में महाराणा राजसिंह द्वितीय की मृत्यु होने से अरिसिंह को मेवाड़ के राज सिंहासन पर बैठा दिया गया । इसके कुछ समय बाद मेवाड़ गद्दी के भी दो दावेदार हो गये थे, एक अरिसिंह व दूसरा रतनसिंह । दोनों ने मराठों से सहायता प्राप्त करने के प्रयास किये । परिणामस्वरूप गृहयुद्ध में मराठा हस्तक्षेप होने लगा, जिससे मेवाड़ की सामाजिक , सांस्कृतिक , आर्थिक व राजनैतिक प्रगति के मार्ग अवरुद्ध हो गये ।

        18 वीं सदी का हमारा राजस्थान  के शासकों के पारस्परिक वैमनस्य के कारण मराठों का हस्तक्षेप बढ़ता रहा , फलतः यहाँ का विकास अवरुद्ध होने लगा ।

🤝 अंग्रेज व संधियां

       मुगल साम्राज्य के पतन और मराठों द्वारा फैलाई गई अराजकता ने राजपूत शासकों, सामंतों तथा प्रजा में राजनीतिक , आर्थिक , सामाजिक अव्यवस्था उत्पन्न कर दी थी । ऐसी स्थिति में राजस्थान की तरफ अंग्रेजों का स्वाभाविक झुकाव हुआ । वे अपनी शक्ति के विस्तार तथा अन्य राजनीतिक , आर्थिक लाभ प्राप्त करने के लिए , राजपूत शासकों से मैत्री करने के लिए उत्सुक हुए । अतः 1817-1818 ई . में राजपूत शासकों से अंग्रेज सरकार ने संधियां करनी शुरू की ।

      राजस्थान के राज्यों में सर्वप्रथम 29 सितम्बर 1803 को भरतपुर राज्य ने अंग्रेजों के साथ संधि स्वीकार कर ली । 1818 ई. तक सिरोही राज्य को छोड़कर , सभी राज्यों ने कंपनी का संरक्षण स्वीकार कर लिया । केवल मारवाड़ के विरोध के कारण, सिरोही से तत्काल संधि नहीं हो सकी एवं 1823 ई. में संधि पर हस्ताक्षर हुए । इस प्रकार अल्प समय में ही संपूर्ण राजस्थान अंग्रेजों के संरक्षण में आ गया ।

🤔 संधियों के परिणाम

        1817-18 ई. की संधियों के परिणामस्वरूप अंग्रेजों को दिये जाने वाले खिराज से देशी शासकों की आर्थिक स्थिति खराब हो गई । अंग्रेजों को, शासकों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप का अवसर मिल गया । अंग्रेजों ने भी शासकों को सामंतों के विशेषाधिकार तथा शक्ति नष्ट करने हेतु दबाव डाला। इससे सामंतों की प्रतिष्ठा को हानि पहुँची । स्वदेशी व्यापार , उद्योग , हस्तशिल्प नष्ट होने लगे ।

      राजस्थान में ईसाई मिशनरियों का प्रवेश होने से उन्होंने ईसाई धर्म का प्रचार करना आरंभ कर दिया । इसकी जनसाधारण में तीव्र प्रतिक्रिया हुई, जो आगे चलकर 1857 ई. के संग्राम में परिवर्तित हो गई ।

शब्दावली

  1. अहदनामा   :- इकरारनामा , समझौता प्रपत्र।
  2. चौथ           :-  मराठों द्वारा अन्य शासकों से लिया जाने वाला सुरक्षा कर ।
  3. खिराज       :-  कृषि भूमि पर लगने वाला कर ।

अभ्यास प्रश्न

 1. निम्न में से हुरड़ा सम्मेलन की अध्यक्षता किसने की थी ?

( अ ) महाराणा जगतसिह द्वितीय

( ब ) सवाई जयसिंह

( स ) अभयसिंह

( द ) बख्तसिंह

2.  रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए- 

(१)  मराठा शक्ति को सर्वप्रथम ………….. ने संगठित किया ।

(२)  राजस्थान के राज्यों में सर्वप्रथम 29 सितम्बर 1803 को ……….. ने अंग्रेजों के साथ संधि स्वीकार कर ली ।

3. पेशवा बाजीराव की मराठा नीति क्या थी ?

4.  राजस्थान में मराठों ने सर्वप्रथम कब व कहाँ प्रवेश किया ? 

5.  जयपुर उत्तराधिकार संघर्ष क्या था ?

6. हुरड़ा सम्मेलन में क्या अहदनामा तैयार किया गया ? 


★ हमारे टेलिग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां click करें।

★ हमारे Whatsapp ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां click करें।

★ GK Quiz के लिए यहां Click करें।

★ हमारा राजस्थान के महत्वपूर्ण अन्य लेख :-

  1. हमारा राजस्थान – एक परिचय

  2. हमारा राजस्थान के प्राचीन ऐतिहासिक क्षेत्र 

  3. हमारा राजस्थान का इतिहास जानने के सोत 

  4. हमारा राजस्थान ~ प्राचीन सभ्यता स्थल 

  5. हमारा राजस्थान ~ आजादी से पूर्व सरकार का स्वरूप

  6. हमारा राजस्थान का भौतिक स्वरूप

  7. हमारा राजस्थान के जल संसाधन और संरक्षण

  8. हमारा राजस्थान आजीविका के प्रमुख क्षेत्र

  9. हमारा राजस्थान में आधारभूत सेवाएँ

  10. हमारा राजस्थान की लोक संस्कृति एवं कला

image_pdfDownloadimage_printPrint
Share this Content ~

Leave a Comment