हमारा राजस्थान की लोक संस्कृति एवं कला

         कृतिका दिल्ली में हुई गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेकर आज विद्यालय आयी थी । प्रार्थना सभा में कृतिका का स्वागत करते हुए उसे अपने अनुभव साझा करने हेतु आमंत्रित किया गया । कृतिका ने बताया कि उसे वहाँ अन्य राज्यों के बच्चों के साथ रहने का अवसर मिला और उसने उनकी कला, संस्कृति , भाषा , खानपान , वेशभूषा के बारे में अनेक नई बातें जानी । साथ ही उसने अपनी राजस्थानी संस्कृति , कला , भाषा , खानपान , वेशभूषा आदि के संबंध में परेड के साथियों को जानकारी दी ।

        प्रार्थना सभा के बाद कक्षा में पहुंच कर अध्यापिका ने कहा , ‘आज हम भी राजस्थान की संस्कृति  व कला के बारे में विस्तार से जानने का प्रयास करेंगे । राजस्थान में अनेक धर्म व सम्प्रदाय के लोग निवास करते हैं । जैसे हिन्दू , मुस्लिम , जैन , बौद्ध , सिक्ख , ईसाई आदि ।

        दक्षिण राजस्थान में एक बड़ी संख्या आदिवासियों की है, जिनमें भील , मीणा , सहरिया , गरासिया , डामोर आदि प्रमुख हैं । राज्य में भाषा , वेशभूषा , रहन – सहन , खानपान आदि में विविधता दिखाई देती है ।

        राजस्थान की मातृभाषा राजस्थानी है । राजस्थान के विभिन्न अंचलों में अनेक प्रकार की भाषाएँ बोली जाती हैं , परन्तु मुख्य रूप से राजस्थानी भाषा को दो रूपों में जाना जाता है:- 

1. पूर्वी राजस्थानी भाषा

2 पश्चिमी राजस्थानी भाषा ।

      पूर्वी राजस्थानी भाषा की प्रतिनिधि चार बोलियाँ है – ढूंढाड़ी ( जयपुरी ) , हाड़ौती . मेवाती व अहीरवाटी । पश्चिमी राजस्थानी भाषा की प्रतिनिधि चार बोलियाँ हैं- मारवाड़ी , मेवाडी , वागड़ी , शेखावटी।

        हमारा राजस्थान साँस्कृतिक दृष्टि से विविधतापूर्ण है। यहाँ भाषा , वेशभूषा , खानपान , रीति – रिवाज आदि में भी अन्तर देखने को मिलता है , इसीलिए कहीं दाल – ढोकला खाते हैं , तो कहीं दाल – बाटी , कहीं बाजरे का खीच , कहीं मक्का की रोटी तो कहीं कैर – साँगरी । 

विषय-सूची

👳 वेशभूषा

       राजस्थानी वेशभूषा अपने चटक रंगों के लिए जानी जाती है । पारंपरिक राजस्थानी परिधान काफी सुन्दर और आरामदायक होते हैं । महिलाएँ  घाघरा , चोली और रंग – बिरंगी गोटा लगी औडनी पहनती हैं। पुरुषों का पारंपरिक परिधान धोती – कुर्ता और कुर्ता – पायजामा है ।

        स्वाभिमान व सम्मान का प्रतीक मानी जाने वाली राजस्थानी पगड़ी बहुत आकर्षक होती है । वर्तमान में पश्चिमी वेशभूषा का प्रभाव बढ़ता जा रहा है , फिर भी राजस्थान की बहुरंगी वेशभूषा प्रभावित करती है ।

📺 मनोरंजन के पारंपरिक साधन

        मनोरंजन जीवन का अनिवार्य अंग है । राजस्थान संस्कृति के विभिन्न अंचलों में स्थानीय एवं सहजता से उपलब्ध पारंपरिक साधनों द्वारा मनोरंजन किया जाता है । राजस्थान के ग्रामीण निवासी स्थानीय एवं सहजता से उपलब्ध साधनों द्वारा मनोरंजन करते हैं ।

       ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चे गिल्ली डंडा , सितोलिया , लुका – छिपी ( आँख – मिचौनी ), घोड़ा – दड़ी , मारदडी , लटू – चक्कर , कचे का खेल आदि खेलते हैं । चौपड – चौसर कपड़े पर बनी बिसात पर खेले जाते हैं । चर – भर , नर – छारी आदि जमीन पर बनाकर खेलते हैं । अन्य जन समुदाय के मनोरंजन के लिए सपेरे , कालबेलिये , मदारी , जादूगर , पतंगबाजी और कठपुतली आदि के खेल थे ।

       लोक नाट्य शैली में ख्याल , हेला , गवरी , तमाशा , तुर्रा कलंगी , रासधारी , रामलीला , दगल , स्वांग , नौटंकी भवई आदि हैं । इन पारंपरिक खेलों के साथ – साथ आधुनिक खेल एवं मनोरंजन के साधन भी यहाँ की जीवनशैली में देखने को मिलते हैं ।

साँस्कृतिक विविधता

    राजस्थान में सभी पर्व व त्यौहार, हर्ष एवं उल्लास के साथ मनाये जाते हैं । जैसे होली , दीपावली , रक्षाबंधन , ईद , महावीर जयंती , गुरु नानक जयंती , क्रिसमस आदि । साथ ही यहाँ गणगौर , तीज , अष्टमी , अक्षय तृतीया आदि पर्व एवं मेले और गवरी , गैर , रम्मत नृत्य एवं लोक गीत हमारी परंपराओं और संस्कृति को दर्शाते हैं ।

👰 गणगौर

      रंगीले राजस्थान का रंग – बिरंगा त्यौहार गणगौर है । गणगौर चैत्र शुक्ल तृतीया से आरम्भ होता है ।  गण और गौर शब्द शिव व पार्वती के सूचक है। गणगौर पर मुख्य रूप से शिव व पार्वती की पूजा की जाती है । गणगौर के अवसर पर राजस्थान में कहीं तीन दिन तो, कहीं चार दिन का उत्सव होता है । राजस्थान के समस्त जिलों में यह त्यौहार अत्यंत धूमधाम से मनाया जाता है । 

👭 तीज

      श्रावण के महीने में मनाया जाने वाला तीज का त्यौहार राजस्थान संस्कृति में एक अलग ही महत्त्व रखता है । शुष्क राजस्थान में जब काली घटाएँ छा जाती हैं, तो यह किसी उत्सव से कम नहीं होता है । श्रावण के महीने में शुक्ल पक्ष की तृतीया को नवविवाहिताएँ पेड़ों पर झूले डालकर झूलती हैं ।

        भादो की कृष्ण पक्ष की तीज को ‘कजली तीज‘ और ‘सातूड़ी तीज‘ के नाम से मनाया जाता है। इस अवसर पर महिलाओं द्वारा मेंहदी लगाई जाती है । पार्वती की पूजा की जाती है और उनसे महिलाएँ अपने सुहाग के दीर्घायु होने की कामना करती हैं । यह त्यौहार प्रकृति और मनुष्य की निकटता का अनुपम उदाहरण है ।

🍚 शीतलाष्टमी

     होली के आठवें दिन चैत्र कृष्ण पक्ष की अष्टमी को शीतला देवी के पूजन के लिए शीतलाष्टमी का त्यौहार मनाया जाता है । इस दिन बासोड़ा भोजन ( एक दिन पहले बनाया गया ) किया जाता है । जयपुर के पास चाकसू की शील की डूंगरी और उदयपुर के वल्लभनगर कस्बे में स्थित शीतला माता के मंदिर में मेले आयोजित होते हैं । लगभग हर शीतलाष्टमी को शहर, गाँव, कस्बे में शीतला माता की पूजा – अर्चना की जाती है।

👫 अक्षय तृतीया

      इस दिन को आखा तीज भी कहा जाता है । इस दिन बिना मुहूर्त निकलवाए सभी मांगलिक कार्य किए जाते हैं । इस दिन गेहूँ , बाजरा , तिल , जौ आदि की पूजा की जाती है । इस दिन गेहूँ व बाजरे का खीच भी बनाया जाता है ।

राजस्थान के प्रमुख मेले

☃️ पुष्कर मेला

      अजमेर जिले के पुष्कर में कार्तिक पूर्णिमा पर भव्य मेला आयोजित होता है । इस अवसर पर विशाल बाजार लगता है और देश – विदेश से पर्यटक आते हैं । यहाँ अनेक प्रतियोगिताओं का आयोजन होता है, जिसमें मेलार्थी उत्साह से भाग लेते हैं ।

     पुष्कर में सुप्रसिद्ध ब्रह्माजी का मंदिर और झील आकर्षण का प्रमुख केन्द्र है । सांयकाल यहाँ दीपदान होता है ।

🐒 कैलादेवी का मेला

      सवाईमाधोपुर में कैलामाता के मंदिर में चैत्र शुक्ला अष्टमी को विशाल मेला लगता है । जिसे लक्खी मेला भी कहते हैं । चैत्र कृष्ण द्वादशी से चैत्र शुक्ल द्वादशी तक चलने वाले इस मेले में दूर – दूर से भक्त आते है ।

😇 महावीर जी का मेला

       सवाई माधोपुर जिले में श्री महावीरजी का मंदिर स्थित है , जहाँ चैत्र शुक्ला एकादशी से बैसाख कृष्णा द्वितीया तक मेला लगता है । यहाँ चौबीसवें जैन तीर्थकर महावीर स्वामी की लाल रंग की भव्य प्रतिमा है ।

🔥 कोटा दशहरा मेला

   कोटा के महाराव दुर्जनशाल सिंह के शासनकाल 1729-1756 ई. में दशहरा पर्व पर विभिन्न राजसी सवारियों , दरीखाना और पूजा – अर्चना के प्रमाण मिलते हैं । महाराव उम्मेदसिंह द्वितीय के शासन काल 1889 ई. से 1940 ई. में दशहरा पर्व को अत्यधिक आकर्षक बनाने का सिलसिला शुरू हुआ । वर्तमान में यह मेला अपने वैभव संस्कृति एवं विशालता को लेकर प्रसिद्ध है ।

🌴 हरियाली अमावस्या मेला

      उदयपुर में लगने वाले इस मेले की शुरूआत महाराणा फतेहसिंह ने 1899 ई. में की थी । यहाँ प्रतिवर्ष हरियाली अमावस्या को भव्य मेला आयोजित किया जाता है । हिन्दू सभ्यता में लोग इसे ‘ सावन ‘ की शुरूआत के तौर पर मनाते हैं । श्रावण माह के कृष्ण पक्ष में लगने वाला यह मेला सावन और उससे मिलने वाली खुशी का संचार करता है ।

💂 ख्वाजा मोइनुदीन चिश्ती का उर्स

       ख्वाजा मोइनुदीन चिश्ती ईरान से भारत आए । इनको गरीब नवाज के नाम से भी जाना जाता है । अजमेर में उनकी दरगाह पूरे देश के लोगों की आस्था का केन्द्र है । इस्लामिक कैलेण्डर के रजब माह की पहली से छठी तारीख तक अजमेर में ख्वाजा साहब का उर्स मनाया जाता है । यह मेला सर्वधर्म समभाव की अनूठी मिसाल माना जाता है ।

🏹 बेणेश्वर मेला 

        यह राजस्थान संस्कृति के आदिवासी समाज का सबसे बडा मेला है । माघ पूर्णिमा के अवसर पर डूंगरपुर जिले में माही , जाखम और सोम नदियों के संगम स्थल पर यह मेला लगता है । इसमें लोग अपने दिवंगतो की अस्थियाँ भी प्रवाहित करते हैं ।

🐁 करणीमाता का मेला

       बीकानेर जिले में देशनोक के करणीमाता मंदिर में यह मेला आयोजित होता है । करणी माता बीकानेर शासकों की अधिष्ठात्री देवी है । इस मन्दिर की विशेषता यह है कि यहाँ काले और सफेद चूहे अत्यधिक संख्या में विचरण करते हैं ।

🏹 खाटू श्यामजी का मेला

      सीकर जिले का खाटू श्यामजी का मन्दिर एक प्रसिद्ध स्थल है । यहाँ फाल्गुन के शुक्ल पक्ष की दशमी से द्वादशी तक मेला आयोजित होता है ।

🦄 बाबा रामदेव का मेला

       जैसलमेर जिले में पोकरण कस्बे के पास रुणीचा नामक स्थान पर भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की , द्वितीया से एकादशी तक यह मेला आयोजित होता है । बाबा रामदेव राजस्थान के जाने – माने लोकदेवता है , जिनमें सभी वर्गों व धर्मों के लोगों की आस्था है ।

🕌 गलियाकोट का उर्स

      डूंगरपुर जिले के सागवाड़ा तहसील के गलियाकोट कस्बे में फखरूद्दीन मौला की मजार है । जिसे मजार – ए – फखरी के नाम से जाना जाता है । यह दाउदी बोहरा समाज की आस्था का बहुत बड़ा केन्द्र है। यहाँ के उर्स में सभी वर्गों के लोग बड़ी संख्या में उत्साह से भाग लेते हैं ।

🎭 अन्य मेले 

        इन सभी मेलों के अतिरिक्त राजस्थान में अनेक मेले लगते हैं । जिसमें मुख्य रूप से सीकर जिले का जीणमाता मेला , अलवर का भर्तृहरि मेला , जयपुर का डिग्गी कल्याण जी का मेला , परबतसर में तेजाजी का मेला, बाड़मेर का गोगाजी का मेला प्रसिद्ध है । राजस्थान में प्रत्येक नगर , कस्बे , गाँवों में स्थानीय स्तर पर भी मेलों का आयोजन होता है ।

प्रमुख लोक देवता एवं संत

        समाज सुधार कार्य , मानव सेवा , वन संरक्षक . पशु धन की रक्षा , गुरुभवित , वचन पालन जैसे मूल्यों के लिये , जीवन देने वाले अनेक महापुरुष राजस्थान में लोक देवता य संत के रूप में पूजनीय है । सामाजिक एवं धार्मिक कारणों से राजस्थान में लोकदेवताओं का उदय हुआ । ये लोकदेवता साम्प्रदायिक सद्भाव के प्रणेता थे ।

🎠 गोगाजी

     गोगाजी राजस्थान के पाँच पीरों – रामदेवजी , पाबूजी , मेहाजी , हडबूजी और गोगाजी में प्रमुख है। गोगाजी चौहान शासक और गोरखनाथ से प्रभावित थे । भाद्रपद कृष्ण नवमी को गोगानवमी के रूप में मनाया जाता है । इस दिन गोगाजी की पूजा – अर्चना की जाती है । गोगामेढी ( हनुमानगढ़ ) में महीने भर तक चलने वाला मेला लगता है ।

🎠 तेजाजी

     तेजाजी ने गौधन की रक्षा के लिए अपने प्राणों की बाजी लगा दी थी । भाद्रपद शुक्ल दशमी को परबतसर में तेजाजी की स्मृति में विशाल पशु मेला आयोजित होता है । तेजाजी की गाथा और गीत बहुत प्रसिद्ध हैं ।

🐫 पाबूजी

    पाबूजी राठौड़ को ऊँटों के देवता के रूप में पूजा जाता है । पावू मंड उनका मुख्य स्थान है । फड़ चित्रण में पाबूजी का जीवन चरित्र दिखाया जाता है ।

🦄 रामदेवजी 

    रामदेवजी लोक देवताओं में सबसे प्रमुख एवं अवतारी पुरुष थे । वे साम्प्रदायिक सौहार्द के प्रेरक थे । मुस्लिम समाज भी उनको ‘ राम – सा ‘ पीर के रूप में मानते हैं । रामदेवरा में भाद्रपद माह में विशाल मेला आयोजित होता है ।

     इन सबके अतिरिक्त मल्ली नाथ , देवनारायण , हरभूजी आदि भी राजस्थान के प्रमुख लोकदेवता माने जाते हैं ।

🙏मीरा बाई

    मीराँ बाई का जन्म मेड़तिया राठौड़ वंश में कुड़की ग्राम ( पाली ) में हुआ। भक्तिमति मीरा बाई का विवाह मेवाड़ के सिसोदिया वंश के कुंवर भोजराज के साथ हुआ । बचपन से ही कृष्ण भक्ति में मीरा का मन रम गया था । मीरा बाई के विवाह के कुछ समय पश्चात् उन्हें वैधव्य का दुख झेलना पड़ा । वह संसार से विरक्त हो गई और अपना पूरा ध्यान कृष्ण भक्ति पर केंद्रीत कर लिया । सरल व सहज भक्ति मीरा की विशेषता रही है , जो उनके पदों में भी झलकती है ।

👏 दादू दयाल

      दादू दयाल के जन्म स्थान को लेकर निशाना में एक राय नहीं है । 1586 ई. में फतेहपुर सीकरी में इन्होंने अकबर से भेंट की और फिर राजस्थान में आकर भक्ति का प्रसार करते रहे । 1603 ई . में नरायणा गाँव में इन्होंने देह त्याग दी ।

🏝️ जाम्भोजी

      जाम्भोजी महाराज विश्नोई संप्रदाय के प्रवर्तक थे । इनका जन्म नि.स 1508 की भाद्रपद कृष्णा अष्टमी को पीपासर ( नागौर ) नामक गाँव में हुआ । जाम्भोजी के उपदेशों पर चलते हुए विश्नोई समाज निरन्तर पर्यावरण की रक्षा य जीव हत्या के विरोध में प्रयासरत है, जो अनुकरणीय है ।

🎠 जसनाथजी

     संत जसनाथजी का जन्म कतरियासर ( बीकानेर ) में हुआ । इन्होंने गोरखनाथ से प्रभावित होकर तपस्या की व चमत्कारी योगी हो गए ।

🙏 श्रद्धानाथजी

    राजस्थान के शेखावाटी क्षेत्र में संत श्रद्धानाथजी ने स्वयं शिक्षित न होते हुए भी जन – जन में शिक्षा की अलख जगाई । इन्होंने अपरिग्रह , समता व चरित्र निर्माण की शिक्षा प्रदान की । सीकर जिले के लक्ष्मणगढ़ में त्याग व तपस्या के प्रतीक एक आश्रम का निर्माण करवाया , जो सभी वर्गों के लिए पवित्र स्थल है । इनकी मान्यता थी कि स्वच्छता में ही ईश्वर का निवास होता है , अत : यह आश्रम का आदर्श वाक्य बन गया ।

हस्तकला

📦 काष्ठकला

        काष्ठकला राजस्थान की एक प्रसिद्ध हस्तकला है । इस कला में लकड़ी से विविध प्रकार की कलात्मक वस्तुएं बनाई जाती है । इस कला का प्रधान केन्द्र बस्सी ( चित्तौड़गढ़ ) है । लकड़ी के येवाण , कावड तथा रंगाई – छपाई के तप्पे यहाँ तैयार किये जाते हैं । लकड़ी से निर्मित खिलौनों एवं कठपुतली निर्माण के लिए उदयपुर प्रसिद्ध है । जेठाना ( डूंगरपुर ) लकड़ी की मूर्तियों के लिए शेखावाटी व बीकानेर फर्नीचर के लिए जाना जाता है ।

🦄 मूर्तिकला

       राजस्थान अपने संगमरमर के लिए प्रसिद्ध रहा है । विभिन्न स्थानों पर अलग – अलग प्रकार के पत्थर पाए जाते हैं । इसी कारण यहीं पर मूर्तियाँ एवं पत्थरों पर बारीक नक्काशी का काम किया जाता है ।टेराकोटा मिट्टी से मूर्तियों तथा विभिन्न सजावटी व उपयोगी वस्तुएं तैयार कर पकाना , टेराकोटा के नाम से जाना जाता है । नाथद्वारा के समीप मोलेला इस काम हेतु प्रसिद्ध है । अलवर व बाड़मेर में भी टेराकोटा की वस्तुएँ निर्मित की जाती है ।

🍲 ब्लूपॉटरी

      चीनी मिट्टी के सफेद बर्तनों पर किए गए नीले रंग के अंकन को ब्लूपॉटरी के नाम से जाना जाता है । इसके अतिरिक्त ब्लेकपॉटरी , सुनहरी पॉटरी आदि भी प्रसिद्ध है । इसके द्वारा डिजाइनर कप – प्लेट अन्य बर्तन और खिलौने व सजावटी सामान जैसे फूलदान आदि बनाए जाते है ।

💍 लाख का काम

      लाख के काम में चपड़ी को पिघलाकर उसमें चाक , मिट्टी बिरोजा आदि मिलाकर गूंथ लिया जाता है। उसी से विभिन्न चीजें तैयार की जाती है । सजावट के लिए काँच एवं मोती लगाए जाते हैं । राजस्थान संस्कृति में जयपुर, जोधपुर इनके आभूषणों के लिए प्रसिद्ध है ।

💎 आभूषण

      राजस्थान संस्कृति के जडाऊ गहनों के लिए जयपुर , जोधपुर , बीकानेर एवं उदयपुर विख्यात हैं । मूल्यवान पत्थरों को तराशने का काम जयपुर में होता है । काँच पर बारीक सोने की नक्काशी का काम थेवा कला कहलाती है जिसके लिए प्रतापगढ़ प्रसिद्ध है । प्रतापगढ़ की जनजातियों में पीतल और चाँदी के आभूषण के लिए विख्यात है ।

👗 कपड़े पर छपाई

       राजस्थान संस्कृति में किस्म – किस्म की छपाई का काम होता है । बगरू , सांगानेर , आकोला , बाड़मेर , कालाडेरा , पाली और बस्सी इन कामों के लिए विशेष प्रसिद्ध है । गोबर , तिल्ली का तेल , बकरी की मेगनी और सोडे के मिश्रण से एक घोल बनाया जाता है । इसमें कपड़े को पूरी रात भिगोने के बाद सुखाया जाता है । सूखने के बाद उसे फिर से हरड़ के घोल में डूबाया जाता है । फिर लकड़ी के छापों ( ब्लॉक्स ) से उन पर छपाई की जाती है । छपाई के लिए पहले सीमित और प्राकृतिक रंगों का उपयोग होता था । अब सिन्थेटिक ( अप्राकृतिक ) रंग का भी उपयोग होता है ।

👒 कशीदाकारी एवं गोटाकारी

     राजस्थान संस्कृति के अनेक स्थानों पर कपड़ों पर कशीदाकारी भी की जाती है । कशीदों में मुख्यतः पशुओं के चित्र उकेरे जाते हैं । कई जगहों पर कपड़ों को तरह – तरह से काटकर , कपड़ों पर सिल दिया जाता है , जिसे पेचवर्क कहा जाता है । गोटे , किनारी और आरी – तारी का काम भी राजस्थान की विशेषता है ।

     इस प्रकार हमने जाना कि देश की राष्ट्रीय संस्कृति का अंग होते हुए भी राजस्थान की संस्कृति की अपनी कुछ विशेषताएँ हैं । यहाँ के पारंपरिक पर्व – त्यौहार , मेले , रीति – रिवाज आदि आकर्षक एवं मनमोहक हैं। इसीलिए राजस्थान ‘ को ‘ रंगीला राजस्थान ‘ कहा जाता है ।

शब्दावली

  1. क्षेत्र             :- अंचल
  2. लोक देवता  :- क्षेत्र – विशेष में पूजे जाने वाले देवता
  3. नक्काशी     :- पत्थर , धातु , लकड़ी आदि पर खोदकर किया जाने वाला कलात्मक कार्य

अभ्यास प्रश्न

1.  चूहों के कारण किस मंदिर को जाना जाता है?

     ( अ ) ब्रह्मा का मंदिर ( ब ) करणी माता का मंदिर ( स ) श्री महावीर जी का मंदिर ( द ) शिवजी का मंदिर

2.  ऊँटों के देवता के रूप में किसे पूजा जाता है?

      ( अ ) रामदेव जी ( ब ) तेजाजी ( स ) पाबूजी ( द ) जसनाथ जी

3.  रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए –

      (१) चीनी मिट्टी के सफेद बर्तनों पर ……… रंग के अंकन से ब्लूपाटरी का निर्माण होता है ।

      (२) तेजाजी ने …………….के लिए अपने प्राणों की बाजी लगा दी ।

4.  गणगौर के अवसर पर किसकी पूजा की जाती है ?

5.  पश्चिमी राजस्थान की कितनी बोलियाँ हैं ?

6.  रामदेवजी को साम्प्रदायिक सौहार्द के प्रेरक के रूप में क्यों जाना जाता है ?

7.  राजस्थान संस्कृति में मनाए जाने वाले विशिष्ट त्यौहारों की जानकारी दीजिए । 


★ हमारे टेलिग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां click करें।

★ हमारे Whatsapp ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां click करें।

★ GK Quiz के लिए यहां Click करें।

★ हमारा राजस्थान के महत्वपूर्ण अन्य लेख :-

  1. हमारा राजस्थान – एक परिचय

  2. हमारा राजस्थान के प्राचीन ऐतिहासिक क्षेत्र 

  3. हमारा राजस्थान का इतिहास जानने के सोत 

  4. हमारा राजस्थान ~ प्राचीन सभ्यता स्थल 

  5. हमारा राजस्थान ~ आजादी से पूर्व सरकार का स्वरूप

  6. हमारा राजस्थान का भौतिक स्वरूप

  7. हमारा राजस्थान के जल संसाधन और संरक्षण

  8. हमारा राजस्थान आजीविका के प्रमुख क्षेत्र

  9. हमारा राजस्थान में आधारभूत सेवाएँ

image_pdfDownloadimage_printPrint
Share this Content ~

Leave a Comment